जन शिक्षण संस्थान विकास भारती गढ़वा में कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्रालय भारत सरकार


जन शिक्षण संस्थान विकास भारती गढ़वा

जन शिक्षण संस्थान विकास भारती गढ़वा में कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्रालय भारत सरकार के निर्देशानुसार स्वतंत्रता दिवस के पूर्व 14 अगस्त को विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस मनाया गया। सभी प्रशिक्षणार्थियों को विभाजन की विभीषिका को याद दिलाने के उद्देश्य कई कार्यक्रमों का आयोजन किया गया।




1. विभाजन विभीषिका से संबंधित प्रदर्शनी।

2. विभाजन विभीषिका से संबंधित वीडियो प्रदर्शन

3. प्रशिक्षणार्थियों के बीच विचार गोष्ठी।

Jan shikshan Sansthan

कार्यक्रम की शुरुआत सिंचाई विभाग से सेवानिवृत्त इंजीनियर विजय कुमार सिंह जी के द्वारा प्रदर्शनी का उद्घाटन कर किया गया । तत्पश्चात सभी प्रशिक्षणार्थियों को डीडी न्यूज़ द्वारा प्रदर्शित विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस से संबंधित वीडियो प्रदर्शित कर दिखलाया गया।अंतिम सत्र में प्रशिक्षणार्थियों के बीच विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया। जिसमें प्रशिक्षणार्थियों के द्वारा अपने अपने विचार रखे गए। कार्यक्रम का समापन सेंटर के प्रभारी निदेशक अनिर्बन रॉय के द्वारा धन्यवाद ज्ञापन कर किया गया। कार्यक्रम का संचालन कार्यक्रम समन्वयक राकेश पाठक के द्वारा किया गया।

Jan shikshan Sansthan

कार्यक्रम में जन शिक्षण संस्थान के सोना सिंह ,अभिजीत, मिथिलेश कुमार रजक ,मिथिलेश कुमार सिंह , कृष्ण कुमार ठाकुर, चिंता देवी ,प्रिया कुमारी ,सोनाली चौधरी ,रिया कुमारी ,पूर्णिमा कुमारी, प्रिया कुमारी ,नागमणि कुमारी ,सुहानी परवीन के अलावे बहुत सारे ट्रेनर और स्टूडेंट उपस्थित रहीं।

Jan shikshan Sansthan

गढ़वा में भारत सरकार के द्वारा जन शिक्षण संस्थान ट्रेनिंग सेंटर खुल चुकी है । इस ट्रेनिंग सेंटर में फ्री ऑफ कॉस्ट ट्रेनिंग दिया जाता है। जिसमें: सिलाई, ब्यूटीशियन, कंप्यूटर, इलेक्ट्रॉनिक इत्यादि । ट्रेनिंग सिखाया जाता है। गढ़वा में जन शिक्षण संस्थान जो हुई थी ओपन 1 अगस्त 2021 जन शिक्षण संस्थान गढ़वा में खुली । जिसमें विभिन्न तरह के कोर्स सिखाया जाता है। न्यू अपडेट के लिए आइकन को प्रेस करें।




Jan Shikshan Sansthan Registration apply online.

Jss gov.in

Msde.gov.in

 

जन शिक्षण संस्थान निदेशक

Neeraj Pareek – Director (All India)

Ashok Bhagat–  Chairman (Jharkhand)

Anirban Ray– Director Garhwa

 

Admission Free Jss.gov.in

जन शिक्षण संस्थान विकास भारती गढ़व ट्रेनिंग सेंटर पर  सिलाई, ब्यूटीशियन, कंप्यूटर, इलेक्ट्रॉनिक इत्यादि । प्रशिक्षण दिया जा रहा है




 जन शिक्षण संस्थान स्वरोजगार प्रशिक्षण

भारत सरकार के द्वारा जन शिक्षण संस्थान गढ़वा में खोला गया है । ये भारत सरकार के द्वारा सभी विद्यार्थी को फ्री  प्रशिक्षण दिया जा रहा है। भारत सरकार के द्वारा ये योजना जन शिक्षण संस्थान गढ़वा में चलाई जा रही है। हमारे झारखंड में गरीबी को देखते हुए जन शिक्षण संस्थान योजना, स्वरोजगार के लिए प्रशिक्षण दिया जा रहा है । ऐसे  विद्यार्थी जो कुछ नहीं कर रहे हैं । उन्हें भारत सरकार के द्वारा रोजगार से जुड़े रहे, भारत सरकार के यही उद्देश्य है । प्रशिक्षण इसीलिए दिया जा रहा हैं। ताकि अपने जीवन में सिख कर कुछ चार पैसे कमा सकें। किसी पर आश्रित होना नहीं पढ़े। स्वरोजगार 

 

 

 

Jan Shikshan Sansthan Guidelines in Hindi

शासनादेश: गैर-साक्षर, नव-साक्षर, 8वीं तक की प्राथमिक शिक्षा और 15-45 वर्ष के आयु वर्ग में 12वीं कक्षा तक स्कूल छोड़ने वाले व्यक्तियों को अनौपचारिक मोड में व्यावसायिक कौशल प्रदान करना। प्राथमिकता समूह में महिलाएँ, अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, अल्पसंख्यक और समाज के अन्य पिछड़े वर्ग शामिल हैं




जन शिक्षण संस्थान क्या है ?

जन शिक्षण संस्थान (JSS) सरकारी योजना है जिसे पहले श्रमिक विद्यापीठ (SVP) के नाम से जाना जाता था, जिसका उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्रों में नव-साक्षर, गैर-साक्षर और स्कूल छोड़ने वालों को एक प्रासंगिक बाजार वाले कौशल की पहचान करके व्यावसायिक प्रशिक्षण प्रदान करना है। उसमें, विशेष रूप से संबंधित क्षेत्र शामिल है

संदेश:-  जान शिक्षण संस्थान

जन शिक्षण संस्थान योजना की उत्पत्ति 1967 में भारत सरकार के ततकालीन शिक्षा एवं संस्कृति मंत्रालय द्वारा औद्योगिक श्रमिकों एवं शहर के झुग्गियों में रहने वालों के व्यावसायिक एवं सामान्य शिक्षा संबंधी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए स्थापित की गई श्रमिक विद्यापीठ से हुई है । वर्श 2000 में , योजना का नाम बदलकर जन शिक्षण संस्थान ( जेएसएस ) कर दिया गया और इसके दायरे में ग्रामीण इलाकों के निरक्षरों , नव साक्षरों और प्रारंभिक शिक्षा प्राप्त लोगों को लाया गया । बीते 50 वर्षों से जेएसएस की योजना सरकारी और निजी भागीदारी के

• साथ सफलतापूर्वक चलायी जा रही है । ये गैर सरकारी संगठन सूदूर प्रदेशों में लाभार्थियों के घरों में जाकर

• व्यावसायिक प्रशिक्षण देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं ।

भारत के माननीय प्रधानमंत्री ने 15.07.2015 को विश्व युवा कौशल दिवस के अवसर पर राष्ट्रीय कौशल विकास मिशन का शुभारंभ किया था । मिशन को कौशल प्रशिक्षण गतिविधियों के संदर्भ में विभिन्न क्षेत्रों और राज्यों में एकरूपता लाने के उद्देश्य से तैयार किया गया है । इसके अलावा भारत सरकार ने मानव संसाधन विकास मंत्रालय के तहत व्यस्क शिक्षा योजना के व्यावसायिक शिक्षा घटक को कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्रालय ( एमएसडीई ) के तहत प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना के अधीन जारी रखे जाने का निर्णय लिया । परिणामस्वरूप जन शिक्षण संस्थान योजना मानव संसाधन विकास मंत्रालय ( एमएचआरडी ) से कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्रालय ( एमएसडीई ) में स्थानांतरित कर दिया गया है ।



एमएसडीई ने अपना मूल जनादेश बनाए रखा है और इसे कौशल विकास के लिए जन शिक्षण संस्थान ( स्वयं सेवी

• संगठनों ) की समर्थन योजना नाम दिया है । सक्षम अधिकारी ने एमएसडीई के तहत जेएसएस को पुनर्जीवित एवं पुनर्गठित करने के लिए एक समिति बनाई है । समिति की कई बैठकें हुई हैं और इनमें विभिन्न पहलुओं पर विचार किया गया है । समिति ने एमएसडीई की आवश्यकताओं एवं मानकों को पूरा करने हेतु समरूपता , पारदर्शिता , लचीलापन , विश्वसनीयता , ब्रांडिंग , मूल्यांकन एवं प्रमाणन की प्रणाली पर सुझाव भी दिए हैं । दिशानिर्देशों ने भी प्रबंधन बोर्ड को अधिक स्वतंत्रता एवं लचीलापन प्रदान किया है और इसके वित्तीय आवंटनों में भी सुधार किया है ।




दिशानिर्देश व्यापक हैं और जेएसएस की अवधारणा एवं उद्देश्यों इसके कार्यों , लक्ष्य समूहों , संगठन एवं प्रबंधन , कार्यक्रम , योजना एवं कार्यान्वयन , व्यावसायिक पाठ्यक्रमों का चुनाव , कर्मचारी एवं वित्त , निगरानी , मूल्यांकन एवं अनुवर्ती कार्य , समाप्ति की प्रक्रिया , लोगो , प्रक्रिया एवं मानदंड और जेएसएस निदेशालय के बारे में स्पष्ट जानकारी प्रदान करते हैं ।

इन दिशानिर्देशों से उम्मीद की जाती है कि ये संगठित तरीके से काम करने में ये जेएसएस की मदद करेंगे ।

सचिव

कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्रालय 

भारत सरकार

Leave a Comment